Hanuman Chalisa lyrics pdf download in Hindi. श्री हनुमान चालीसा पाठ पीडीएफ हिंदी में डाउनलोड करें। Find answers to all your queries like “Who wrote Hanuman Chalisa?”, “Hanuman Chalisa kisne likhi hai?” and more on this page. Most powerful prayer in 2023.


Hanuman Chalisa pdf download in Hindi, English, Bangla and Telegu. श्री हनुमान चालीसा पीडीएफ हिंदी, अंग्रेजी, बांग्ला और तेलुगु में डाउनलोड करें।

Hanuman Chalisa in Hindi in pdf format – download easily from button/link given above. Hanuman Chalisa lyrics in Hindi, video playback and MP3 audio playback and MP3 download are also provided below on this page for reader’s benefit.

Hanuman Chalisa pdf download. श्री हनुमान चालीसा पाठ व आरती
हनुमान चालीसा पाठ व आरती

What is Hanuman Chalisa? / हनुमान चालीसा क्या है?

Hanuman Chalisa is a spiritual hymn devoted to Lord Hanuman, one of the most hallowed divinities in Hinduism. It’s a 40- verse prayer composed by the saint Tulsidas in the 16th century in the Awadhi language, a branch of Hindi. The word” Chalisa” means” forty” in Hindi, pertaining to the 40 verses of the hymn. Lord Hanuman, also known as the Monkey God, is considered an epitome of devotion, courage, strength, and fidelity in Hindu tradition.

He’s a central character in the Indian epic, the Ramayana, where he plays a vital part in the hunt for Lord Rama’s woman, Sita, who was abducted by the demon king Ravana. The Hanuman Chalisa describes the colorful attributes and accomplishments of Hanuman and praises his devotion to Lord Rama. It’s believed that reciting the Hanuman Chalisa with devotion can bring protection, courage, wisdom, and success in one’s trials. Numerous Hindus recite this prayer daily, especially on Tuesdays and Saturdays, which are considered auspicious days for Lord Hanuman.

हनुमान चालीसा एक भक्ति भजन है जो हिंदू धर्म में सबसे प्रतिष्ठित देवताओं में से एक, भगवान हनुमान को समर्पित है। यह 16वीं शताब्दी में संत कवि तुलसीदास द्वारा हिंदी की एक बोली, अवधी भाषा में रचित 40 छंदों वाली प्रार्थना है। “चालीसा” शब्द का हिंदी में अर्थ “चालीस” है, जो भजन के 40 छंदों को संदर्भित करता है। भगवान हनुमान को हिंदू पौराणिक कथाओं में भक्ति, साहस, शक्ति और वफादारी का प्रतीक माना जाता है।

वह भारतीय महाकाव्य, रामायण में एक केंद्रीय पात्र हैं, जहां उन्होंने भगवान राम की पत्नी सीता की खोज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिनका राक्षस राजा रावण ने अपहरण कर लिया था। हनुमान चालीसा में हनुमान की विभिन्न विशेषताओं और उपलब्धियों का वर्णन किया गया है और भगवान राम के प्रति उनकी भक्ति की प्रशंसा की गई है। ऐसा माना जाता है कि हनुमान चालीसा का भक्तिपूर्वक पाठ करने से व्यक्ति को सुरक्षा, साहस, ज्ञान और अपने प्रयासों में सफलता मिल सकती है। कई हिंदू इस प्रार्थना को प्रतिदिन पढ़ते हैं, विशेष रूप से मंगलवार और शनिवार को, जो भगवान हनुमान के लिए शुभ दिन माने जाते हैं।


श्री हनुमान चालीसा चौपाई Hanuman Chalisa hindi pdf download


Hanuman Chalisa Video / श्री हनुमान चालीसा | संकटमोचन हनुमान् अष्टक

Hanuman Chalisa Audio MP 3 Playback and download.

Play Hanuman Chalisa audio and also download Hanuman Chalisa aarti as MP3 from the audio player below.

श्री हनुमान चालीसा ऑडियो चलाएं और नीचे दिए गए ऑडियो प्लेयर से श्री हनुमान चालीसा आरती को MP3 में डाउनलोड करें।

Hanuman Chalisa audio MP3 playback and download.

हनुमान चालीसा पाठ हिंदी में इस प्रकार है। Hanuman Chalisa lyrics in Hindi.

“श्रीगुरु चरण सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि। बरनउँ रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि॥

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार। बल बुद्धि विद्या देहु मोहि, हरहु कलेस बिकार॥

चौपाई।

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर। जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥

राम दूत अतुलित बल धामा। अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा॥

महावीर विक्रम बजरंगी। कुमति निवार सुमति के संगी॥

कंचन बरन विराज सुवेशा। कानन कुंडल कुंचित केशा॥

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजे। कांधे मूँज जनेऊ साजे॥

शंकर सुवन केसरी नंदन। तेज प्रताप महा जग बन्दन॥

विद्यावान गुनी अति चातुर। राम काज करिबे को आतुर॥

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया। राम लखन सीता मन बसिया॥

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा। विकट रूप धरि लंक जरावा॥

भीम रूप धरि असुर संहारे। रामचन्द्र के काज सवारे॥

लाय सजीवन लखन जियाये। श्रीरघुवीर हरषि उर लाये॥

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई। तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई॥

सहस बदन तुम्हरो यश गावैं। अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं॥

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा। नारद-शारद सहित अहीसा॥

जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते। कवि कोविद कहि सके कहाँ ते॥

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा। राम मिलाय राज पद दीन्हा॥

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना। लंकेस्वर भए सब जग जाना॥

जुग सहस्त्र जोजन पर भानू। लील्यो ताहि मधुर फल जानू॥

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं। जलधि लांघि गये अचरज नाहीं॥

दुर्गम काज जगत के जेते। सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते॥

राम दुआरे तुम रखवारे। होत न आज्ञा बिनु पैसारे॥

सब सुख लहैं तुम्हारी शरना। तुम रक्षक काहू को डरना॥

आपन तेज सम्हारो आपैं। तीनों लोक हांक तें कांपैं॥

भूत पिसाच निकट नहिं आवैं। महाबीर जब नाम सुनावैं॥

नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा॥

संकट तें हनुमान छुड़ावैं। मन क्रम बचन ध्यान जो लावैं॥

सब पर राम तपस्वी राजा। तिन के काज सकल तुम साजा॥

और मनोरथ जो कोई लावैं। सोई अमित जीवन फल पावैं॥

चारों जुग परताप तुम्हारा। है परसिद्ध जगत उजियारा॥

साधु संत के तुम रखवारे। असुर निकंदन राम दुलारे॥

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता। अस वर दीन जानकी माता॥

राम रसायन तुम्हरे पासा। सदा रहो रघुपति के दासा॥

तुम्हरे भजन राम को पावैं। जनम जनम के दुख बिसरावैं॥

अंतकाल रघुवर पुर जाई। जहां जन्म हरिभक्त कहाई॥

और देवता चित्त न धरई। हनुमत सेइ सर्व सुख करई॥

संकट कटै मिटै सब पीरा। जो सुमिरैं हनुमत बलबीरा॥

जय जय जय हनुमान गोसाईं। कृपा करहु गुरुदेव की नाईं॥

जो सत बार पाठ कर कोई। छूटहि बंदि महा सुख होई॥

जो यह पढ़ैं हनुमान चालीसा। होय सिद्धि साखी गौरीसा॥

तुलसीदास सदा हरि चेरा। कीजै नाथ हृदय महं डेरा॥

दोहा॥

पवनतनय सँकट हरन, मंगल मूरति रूप। राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप॥”


6 wonderful benefits / advantages of regularly reciting Shri Hanuman Chalisa:

1. Fiscal Blessings: Hanuman Chalisa holds the power to remove fiscal troubles. When you recite it, you bring Hanuman ji, who’s known as the giver of Ashtasiddhi( eight accomplishments) and Navanidhi( nine treasures). This godly practice bestows blessings, leading to wellness and plentitude.

Whenever you encounter fiscal challenges, take a moment to meditate on Hanuman ji and recite Hanuman Chalisa with devotion. Within a few weeks, not only will you find results to your problems, but your fiscal worries will also fade down. Regular practice is crucial, and starting the practice on a Tuesday is considered auspicious.

2. Fear Dispelled: The verses of Hanuman Chalisa assure protection from fear and negative forces. Regularly reciting it fills your heart with courage and keeps you shielded from unseen fears.

If you ever feel frightened by the unknown, recite Hanuman Chalisa with a pure heart before going to bed, after washing your hands and feet. You will find solace and strength in the embrace of Hanuman ji’s divine presence.

3. Peaceful Sleep: If restlessness troubles your sleep, Hanuman Chalisa can be your lullaby. The tranquility it brings to the mind dispels inner turmoil and allows for restful sleep.

Make it a habit to recite Hanuman Chalisa before bedtime, and you’ll find yourself waking up refreshed and ready to embrace life’s journey.

4. Strength and Healing: Hanuman ji is a symbol of mighty strength and courage. By meditating on him and reciting Hanuman Chalisa, you invite his valor and blessings into your life.

Those who suffer from ailments or find no respite from illnesses despite treatments can benefit from regular recitation of Hanuman Chalisa. It brings healing energy and fills your life with positivity.

5. Wisdom and Knowledge: Students seeking wisdom and knowledge can seek the blessings of Hanuman ji. As you recite Hanuman Chalisa with devotion, you are graced with intellect, virtue, and a thirst for knowledge.

Join the ranks of eager students who visit Hanuman ji’s temple on Tuesdays, seeking inspiration and success in their academic pursuits. Let Hanuman ji’s wisdom guide you towards a bright future.

6. Liberation and Happiness: Hanuman Chalisa holds the key to spiritual liberation. By immersing yourself in the devotion of Hanuman ji and reciting the sacred verses, you pave the way for ultimate happiness and liberation.

Embrace the divine presence of Hanuman ji in your life, and find eternal joy in the path of devotion.

Remember, the beauty of Hanuman Chalisa lies not only in its verses but also in the faith and love with which it is recited. Embrace this divine practice with an open heart, and let Hanuman ji’s blessings fill your life with abundance, courage, and bliss.


श्री हनुमान चालीसा के 6 मुख्य लाभ / फ़ायदे।

1. हनुमान चालीसा के नियमित पाठ से वित्तीय समस्याएं दूर हो जाती हैं।

हनुमान चालीसा में हनुमान जी को अष्टसिद्धि और नवनिधि का दाता कहा गया है। इसका अर्थ है कि जो व्यक्ति नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करता है, उसे आठ उपलब्धियों और नौ खजानों से सम्पन्न किया जाता है।

जब भी आपके सामने आर्थिक संकट आए, मन में हनुमान जी का ध्यान करते हुए हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू करें।

कुछ हफ्तों के भीतर ही, आप न केवल अपनी समस्या का समाधान प्राप्त करेंगे, बल्कि आपकी वित्तीय समस्याएं और चिंताएं भी दूर हो जाएंगी। ध्यान देने वाला है कि किसी भी दिन कोई भी पाठ का अवसर न छूटे। यदि यह क्रम मंगलवार से शुरू हो तो अच्छा होगा।

2. अज्ञात से डर को दूर करना।

‘भूत पिसाच निकट नहिं आवै, महावीर जब नाम सुनावै।’ हम अक्सर हनुमान चालीसा में यह चौपाई पढ़ते हैं। इससे यह बताया गया है कि जो व्यक्ति नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करता है, उसे भूतों और अन्य नकारात्मक शक्तियों से नहीं घिरते।

नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करने वाला व्यक्ति उच्च मोराल वाला होता है और उसको किसी भी तरह का भय नहीं होता है।

यदि कोई अज्ञात भय आपको तंग कर रहा है तो सोने से पहले अपने हाथ और पैर धोकर शुद्ध मन से हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू करें।

3. सोने से पहले हनुमान चालीसा का पाठ करें।

अगर आप सोते समय चिंतित रहते हैं और आपको ठीक से नींद नहीं आती है तो आप नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू करें।

ठीक से नींद न आने का मुख्य कारण मानसिक विकार है। हनुमान चालीसा का पाठ मन को शांति देता है और मन में चल रहे उतार-चढ़ाव से मुक्ति मिलती है, जिससे व्यक्ति को अच्छी नींद मिलती है और जीवन में आगे बढ़ने का मौका मिलता है।

4. शारीरिक और मानसिक शक्ति के लिए हनुमान चालीसा का पाठ करें।

हनुमान जी सबसे शक्तिशाली और महावीर हैं, यह विषय रामचरितमानस से हनुमान चालीसा तक कहीं भी उल्लेख किया गया है।

उनके ध्यान से मनुष्य बलवान और साहसी बन जाता है। जिन लोगों को बार-बार बीमारी होती है या जिनकी बीमारी बहुत इलाज के बाद भी कम नहीं हो रही हो, वे नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करें।

हनुमान चालीसा में लिखा भी है, “नसाई रोग हरि सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत वीरा।”

5. छात्र रोज़ाना हनुमान चालीसा का पाठ करें।

आपने देखा होगा कि मंगलवार को हनुमान जी के मंदिर में दर्शन करने के लिए बहुत सारे छात्र आते हैं। इसका कारण वे छात्र जिन्हें हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है, वे बुद्धिमान, धर्मिक और ज्ञानी बनते हैं, अर्थात् बुद्धिजीवी।

हनुमान जी के आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए छात्रों को नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। छात्र जीवन में चालीसा का पाठ करने से मेमोरी शक्ति बढ़ती है और शिक्षा के क्षेत्र में सफलता मिलती है।

इसका कारण यह है कि हनुमान जी खुद बहुत बुद्धिमान हैं और राम के कार्य करने की इच्छा रखते हैं। हनुमान जी उन गुणों को उन लोगों को संवारते हैं जो भक्ति भाव से हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं।

6. हनुमान चालीसा का पाठ करने का सबसे बड़ा लाभ।

मानव जीवन का अंतिम लक्ष्य मुक्ति, यानी शरीर छोड़ने के बाद सर्वोच्च आवास को प्राप्त करना माना जाता है। हनुमान चालीसा में लिखा है ‘अंत काल रघुबर पुर जाई।’ वहां हरि-भक्त जन्मा। और भगवान ने उसका मन नहीं हाथ पकड़ा। हनुमंत से दिल लगाए निज सुख सहज प्राप्त करे।

इसका अर्थ है कि हनुमान पर ध्यान करने, उन्हें पूजने और हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करने वाले व्यक्ति का सर्वोच्च स्थान की ओर जाने का मार्ग आसान हो जाता है।

Frequently asked questions about Shri Hanuman Chalisa

हनुमान चालीसा कैसे पढ़ सकते हैं?

गाय के घी या तिल के तेल का दिया जलाएं और एक लोटे में जल भरकर रखें और हनुमान जी के सामने 3 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें. – गुड़ या बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं. – ऐसा लगातार 11 मंगलवार करने से हनुमान जी की कृपा प्राप्त होती है।

हनुमान चालीसा कब नहीं पढ़ना चाहिए?

हनुमान चालीसा का पाठ करने वालों को पराई स्त्रियों पर कुदृष्टि नहीं डालनी चाहिए। अर्थात यदि आप विवाहित हैं तो कभी भी पराई स्त्री से संबंध नहीं बनाना चाहिए। और यदि कुंवारे हैं तो विवाह होने तक प्रत्येक महिला को सम्मान की नजरों से देखना चाहिए। परई स्त्रियों पर कुदृष्टि डालने वाले को हनुमान चालीसा का पाठ नहीं करना चाहिए।

क्या हनुमान चालीसा सच में सूर्य से दूरी बताती है?

हनुमान चालीसा में उल्लिखित सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी:

यानी 22000 * 6371 किलोमीटर = 140,162,000 किलोमीटर (140 मिलियन किलोमीटर)। हिंदू प्रार्थना की दो पंक्तियाँ “हनुमान चालीसा” इस दूरी की गणना बड़ी सरलता से करती हैं। “! जुग सहस्त्र योजन पर भानु, लील्यो ताहिमधुर फल जानू !”

क्या मैं सोते समय हनुमान चालीसा सुन सकता हूं?

ऐसा कहा जाता है कि हनुमान चालीसा आपको बुरे सपनों से भी बचा सकती है और नकारात्मक ऊर्जा और बुरी आत्मा को दूर रखने में मदद करती है। बुरे सपनों से हमेशा के लिए छुटकारा पाने के लिए सोते समय तकिये के नीचे हनुमान चालीसा रखने की सलाह दी जाती है।

हनुमान चालीसा कितने दिन तक पढ़ना चाहिए?

हनुमान चालीसा के पाठ से पाठकर्ता की कामनाएं भी पूरी होते हैं। लेकिन अगर कोई हनुमान भक्त लगातार 7 दिनों तक हर रोज 7 बार उगते हुए सूर्य या भगवान राम जी के सामने श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें तो कुछ ही दिनों उनकी एक दो नहीं अनेक मनोकामनाएं पूरी हो जाती है।

सात बार हनुमान चालीसा पढ़ने से क्या लाभ होता है?

शनिवार के दिन किसी भी हनुमान मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ सात बार हनुमान जी की प्रतिमा के सामने उनको सिंदूर का लेप लगाकर और दाहिने पैर से सिंदूर का टीका अपने माथे पर लगाकर 7 बार हनुमान चालीसा का पाठ करने से शनि मजबूत होता है और उस किसी भी सरकारी नौकरी के लिए या किसी भी प्रकार की नौकरी के लिए शनि का मजबूत होना जहां नौकरी में अच्छा फल देता है वह हनुमान जी की कृपा से जो भी कार्य होते हैं वह पूर्ण होते हैं।

हनुमान जी को संकट मोचन क्यों कहा जाता है?

रामायण में जिस कुशलता से उन्होंने तमाम समस्याओं का समाधान किया, वह बिना विशेष योग्यता के हो ही नहीं सकता. – समय, ज्ञान, वाणी और संसाधनों का सटीक प्रयोग करने के कारण ही हम उन्हें मैनेजमेंट गुरु कह सकते हैं. – साथ ही हर तरह के संकट का नाश चतुराई से करने के कारण वह संकटमोचन भी कहे जाते हैं

What is the secret behind Hanuman Chalisa?

It is said that chanting the Hanuman Chalisa in utter devotion brings Lord Hanuman to come to our rescue to solve all our troubles. The strength that the verses evoke can bring about life changing alterations provided there exists a complete faith and devotion of the great devotee Hanuman.

चालीसा क्यों कहा जाता है?

चालीसा हिंदी शब्द चालीस (कभी-कभी कैलिस लिखा जाता है) से लिया गया है, जिसका अर्थ है “चालीस”। इसलिए, हनुमान चालीसा को तथाकथित कहा जाता है क्योंकि इसमें 40 छंद हैं जो हनुमान की स्तुति करते हैं । लाखों हिंदू प्रतिदिन स्मृति से इस भजन का पाठ करते हैं।

Also read the following posts :

What is a Chalisa?

Sankat Mochan Hanuman Ashtak / हनुमान अष्टक

Bajrang Baan pdf download बजरंग बाण पाठ lyrics

Ganesh Chalisa गणेश चालीसा lyrics pdf easy download 2023

Leave a Comment